in

हिन्दू भावनाओं की रक्षा को लेकर, पद्मावती पर CM योगी का ऐतिहासिक फैसला- भंसाली समेत पूरी फिल्म इंडस्ट्री में हाहाकार !

कोई तो ऐसी सरकार है देश में की भावना का पूर्ण सम्मान करती हुई दिखाई देती है, और वो है उत्तर प्रदेश की योगी जी आदित्यनाथ सरकार, जी हां योगी जी आदित्यनाथ सरकार ने संकेत दिए है की उत्तर प्रदेश में हिन्दू विरोधी फिल्मबाज़ संजय लीला भंसाली वाहियात फिल्म पद्मावती को बैन किया जा सकता है, उत्तर प्रदेश में कभी रिलीज ही नहीं करने दी जाएगी ऐसी वाहियात फिल्म

योगी जी आदित्यनाथ सरकार ने केंद्र को चिट्ठी लिखकर कहा की, पद्मावती फिल्म पर रोक लगा दीजिये, हमे शंका है की उत्तर प्रदेश में इस फिल्म को लेकर शांति फ़ैल सकती है, और प्रदेश में अशांति फैलने की आशंका से राज्य सरकार चिंतित है अतः इस फिल्म को रोक दिया जाये

योगी जी आदित्यनाथ सरकार ने केंद्र में मोठे तौर पर मांग करि है की फिल्म के रिलीज पर रोक लगे, क्यूंकि इस वाहियात फिल्म से हिन्दुओ की भावनाएं आहात हो रही है, और इसी कारण इसपर रोक लगनी चाहिए, वरना अशांति हो सकती है

योगी जी आदित्यनाथ सरकार का साफ़ मत है की भंसाली की वाहियात फिल्म पद्मावती हिन्दुओ की भावनाओं के विरुद्ध है, और हिन्दू इस फिल्म से आहात हो सकते है, इसलिए योगी जी आदित्यनाथ सरकार इस फिल्म के पक्ष में नहीं है, वहीँ सूत्रों का कहना है की, केंद्र इस फिल्म पर सभी राज्य सरकारों को छूट देगा, की वो फिल्म दिखाना चाहते है या फिर नहीं, फिल्म को राज्य चाहे तो दिखा सकते है, या बैन भी कर सकते है

अब योगी जी आदित्यनाथ सरकार तो पहले से इस फिल्म से अशांति की आशंका जाता चुकी है, ऐसे में अब मोटा मोटा ये मान ही लेना चाहिए की उत्तर प्रदेश में तो कम से कम हिन्दुओ की भावना से खिलवाड़ नहीं करने दिया जायेगा और भंसाली की फिल्म बैन होगी

उत्तर प्रदेश में पद्मावती की रिलीज को टालने के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखने की बाबत योगी आदित्यनाथ ने कहा कि फोर्स निकाय चुनाव में व्यस्त है। यदि कोई फिल्म में इतिहास से छेड़छाड़ के जरिए समाज में जहर घोलने का काम कर रहा हो तो इसे सही नहीं कहा जा सकता। योगी ने कहा कि मैं फिल्म पर रोक नहीं लगा सकता, लेकिन कानून व्यवस्था के मसले को देखना हमारा काम है।

काफी विवाादों से जूझ रही संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती के सामने उत्तर प्रदेश में एक और बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है। कई संगठनों के विरोध के बाद अब यूपी सरकार ने भी यह कहते हुए केंद्र सरकार को पत्र लिखा है कि फिल्म का रिलीज होना शांति व्यवस्था के लिए खतरा हो सकता है। यह पत्र यूपी के गृह विभाग ने केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण सचिव को लिखा है। पत्र में फिल्म की कहानी और ऐतिहासिक तथ्यों को कथित रूप से तोड़-मरोड़ कर पेश किए जाने की बात कहते हुए इस संबंध में केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) को अवगत कराने का अनुरोध किया गया है।

गृह विभाग ने पत्र के माध्यम से केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण सचिव को अवगत कराया है कि वर्तमान में प्रदेश में स्थानीय निकायों के चुनाव की प्रक्रिया चल रही है, जिसमें 22, 26 और 29 नवंबर को 3 चरणों में मतदान होना है। मतगणना की तिथि 1 दिसम्बर, 2017 है। 2 दिसम्बर, 2017 को ही चन्द्रदर्शन के अनुसार बारावफात का पर्व भी पडऩा संभावित है, जिसमें पारंपरिक रूप से मुस्लिम समुदाय द्वारा बड़े पैमाने पर जुलूस आदि निकाले जाते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

वीडियो: आतंकी बुरहान वानी पर पाकिस्तान में बन रही है फिल्म टीजर देख गुस्से में आ जाएंगे

बड़ा खुलासा : जब ” हिन्दू शरणार्थी ” बनेंगे तो ऐसा कौन सा देश है जो हिन्दुओं को आश्रय देगा, मचा हडकंप …..