in

तेज रफ्तार स्कार्पियो अचानक ब्रेक लगाते ही हवा में उछली, यूं बिछ गईं लाशें

स्पीड इतनी कि बैलेंस खोते ही 50 मीटर तक 4 बार पलट कर वापस खड़ी हो गई कार।

हादसे में 4 लोग गाड़ी से बाहर गिर गए, जिनकी गाड़ी के नीचे दबने से मौत हो गई।

बाड़मेर(राजस्थान).यहां एक तेज रफ्तार स्कार्पियो भयानक हादसे का शिकार हो गई। मोड़ में अचानक आई नील गाय को बचाने के लिए ड्राइवर ने ब्रेक लगाए। रफ्तार तेेज होने और मोड़ के कारण गाड़ी पलटने के बाद 50 मीटर तक घसीटती रही और फिर वापस उसी डायरेक्शन में खड़ी हो गई, जिससे आई थी। हादसे में स्कार्पियो में सवार दो मासूम समेत चार लोगों की मौत हो गई, जबकि पांच लोग जख्मी हो गए। हादसे के समय गाड़ी में कुल 13 लोग सवार थे। एक ही परिवार के ये सभी लोग गांव से रिश्तेदार के घर आए थे और वापस गाड़ी से दोपहर बाद जा रहे थे। शादी वाली जगह से महज से ढाई किमी. दूरी पर ही चार लोगों ने दम तोड़ दिया।

तेज रफ्तार स्कार्पियो अचानक ब्रेक लगाते ही हवा में उछली, यूं बिछ गईं लाशेंजख्मी बच्चे को इलाज के लिए हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

– पुलिस के मुताबिक, स्कार्पियों गाड़ी में सवार होकर एक ही परिवार के तेरह लोग सारणों का तला होडू से गंगासरा आए थे। मंगलवार रात को गंगासरा में शादी समारोह में हिस्सा लेने के बाद बुधवार दोपहर बाद वापस होडू के लिए रवाना हुए थे।

– सांजटा-गंगासरा रोड पर लूखों का तला सरहद में तेज रफ्तार के कारण नील गाय को बचाने के लिए ब्रेक लगाने पर स्कार्पियों ने बैलेंस खो दिया।

– ड्राइवर गाड़ी को संभाल नहीं पाया, चार बार पलटी खाने से कांच टूट गए व गेट खुल गए। चार लोग गाड़ी से बाहर गिर गए, जिनकी गाड़ी के नीचे दबने से मौत हो गई, जबकि गाड़ी में सवार जो लोग बाहर नहीं गिरे वो जख्मी हुए है।

हादसे में बच्चा भी जख्मी हुआ है।हादसे में बच्चा भी जख्मी हुआ है।

मामा के साथ रवाना हुए थे बच्चे

गंगासरा में शादी थी, होडू से मामा आए थे, मामा को देख ननिहाल जाने की जिद पर अड़े खेलने-कूदते बच्चे मामा के साथ रवाना हुए थे। घर से ढाई किमी. की दूरी पर दोनों की सांसें छीन ली। इनमें 10 साल की भावना अौर देवीलाल की मौत हो गई। हादसे की खबर सुनकर बच्चों के परिजन बेहोश हो गए। कोहराम मच गया। हर कोई बचाव में जुट गया।

दबने से चार की मौत बाकी जख्मी

दरअसल स्कार्पियो की तेज रफ्तार में ब्रेक के बाद गाड़ी पलटी खा गई। दूसरी पलटी में शीशे टूट गए, दरवाजे खुल गए। एक-एक करके दो बच्चों समेत चार लोग सड़क पर गाड़ी से गिर गए। गाड़ी से टकराने और दबने से चार की मौत हो गई। जबकि, जो लोग गाड़ी से नीचे नहीं गिरे और अंदर थे, वे बच गए। उनमें तीन लोगों की हालत नलाजुक है, जबकि 4-5 लोगों को मामूली चोटें ही आई है।

सीट बेल्ट लगे होते तो बच सकती थी जान

– गाड़ी में सवार रामाराम जाट, जालाराम जाट, भावना और देवीलाल जाट की मौके पर ही मौत हो गई।

– गंभीर रूप से जख्मी वाहन ड्राइवर रेखाराम, भावेश, सारों, मघी, मामताराम, पोकरराम, हुकमाराम और बजरंग जख्मी हो गए। जख्मियों में रेखाराम, भावेश, मघी और हुकमाराम को गंभीर चोटें आई, जबकि बाकी ज्यादा जख्मी नहीं हुए। इनमें गंभीर जख्मी तीन साल के भावेश को जोधपुर रेफर किया गया है।

– स्कार्पियो गाड़ी तेज रफ्तार के कारण पलटी, लेकिन अगर सीट बेल्ट लगाए हुए होते तो शायद जान बच सकती थी। इसकी वजह यह थी कि हादसे में मरने वाले चारों लोगों की मौत गाड़ी से बाहर गिरने के बाद चोट लगने और दबने से हुई है। जबकि सीट बेल्ट लगा होता तो शायद इनकी जान नहीं जाती

तेज रफ्तार स्कार्पियो अचानक ब्रेक लगाते ही हवा में उछली, यूं बिछ गईं लाशें

नील गाय को बचाने के लिए ब्रेक लगाने पर स्कार्पियों ने बैलेंस खो दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

फौजी को ऐसे दी गई अंतिम विदाई, गांववालों ने फूलों से सजा दिया रास्ता

मुकेश अंबानी के बेटे की शादी के कार्ड की कीमत सुनोगे तो आंखे फटी की फटी रह जायेंगी !