in

तीन तलाक़ के मुद्दे पर ख़ुशी मना रहीं पुरानी दिल्ली की मुस्लिम महिलाओं ने पीएम मोदी के बारे में ये क्या कह दिया?

लंबे समय से तीन तलाक को लेकर भारत में बहस चल रही थी. एक पक्ष लगातार कह रहा था कि तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए अभिशाप है तो वहीं कुछ लोग तीन तलाक पर बैन लगाने के खिलाफ थे. हालांकि अब तीन तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार को ऐतिहासिक जीत मिल चुकी है, लोकसभा में कई संशोधन प्रस्तावों के खारिज होने के बाद केंद्र का ‘मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज बिल’ आसानी से पारित हो गया है.

इसी मुद्दे पर बात करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि “यह विधेयक फायदेमंद है उन नौ करोड़ मुस्लिम महिलाओं के लिए जो हर समय तलाक दे दिए जाने के डर में जी रही हैं.” उन्होंने आगे बताया कि “इस बिल से उन लोगों को झटका लगेगा जो तलाक के जरिये महिलाओं को हमेशा दहशत और आतंक के साए में रखना चाहते हैं.” कुरान की आयतों को पढ़ते हुए एम जे अकबर ने कहा कि “हमारा जो धर्मग्रन्थ है, कुरान, वो भी यही कहता है कि महिलाओं को उनके हक़ से ज्यादा मिलना चाहिए.”

ऐसे में जब इस बात की खबर देशभर की मुस्लिम महिलाओं की मिली तो उनकी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था. दैनिक जागरण में छपी एक खबर के मुताबिक इस खबर की ख़ुशी मना रहीं पुरानी दिल्ली की मुस्लिम महिलाओं की ख़ुशी देखने लायक थी. वो इस बिल के पास होने से इस कदर खुश नज़र आयीं जिसका कोई जवाब नहीं था. इसी मौके पर उन्होंने पीएम मोदी को शुक्रिया कहा. ये महिलाएं आपस में एक दूसरे का मुंह मीठा कर खुशियाँ बाँट रही थीं लेकिन इस ख़ुशी में ये नहीं भूली कि आखिर उन्हें ये ख़ुशी किस के चलते मिली है. वो पीएम मोदी की तहेदिल से शुक्रगुजार नज़र आयीं.

 

बीते काफी समय से देशभर की मुस्लिम महिलाएं लोकसभा में विधेयक पारित कराने को लेकर चल रही लंबी बहस को आँखें बिछाकर इंतज़ार कर रही थीं. ऐसे में बिल के आते ही नाजिया खान ने कहा कि, “मुस्लिम महिलाओं को दोयम दर्जे की जिदंगी मिली हुई थी. कोई हमारी हालात पर ध्यान नहीं दे रहा था, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद है कि उन्होंने हमारे ऊपर ध्यान दिया.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लखनऊ मदरसा कांड के बाद मुस्लिमों ने उड़ाई सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां, योगी जी समेत PM मोदी भी हैरान..

तीन तलाक के बाद पीएम मोदी का कड़क एलान, 70 साल से चली आ रही परंपरा का किया अंत, ओवैसी की भी फटी रह गयी आखें