in

नेहरू-गाँधी ने आज़ादी दिलाई, नेहरू-गाँधी तो छोड़िये देखिये इस लिस्ट में कोई भी कोंग्रेसी है क्या ?

गाँधी का जन्मदिवस हो, या नेहरू का जन्मदिवस हो, हर बार कांग्रेस के नेता कहते है की, भारत को कांग्रेस और गाँधी नेहरू ने आज़ादी दिलाई, आज नेहरू के जन्मदिवस पर भी कांग्रेस नेता यही कह रहे है की, भारत को आज़ादी नेहरू ने दिलाई, देखना तो भाई, इस लिस्ट में कोई कांग्रेसी है क्या — आज़ादी की लड़ाई 1857 से शुरू होती है और ऑन रिकॉर्ड 7 लाख 32 हज़ार भारतीयों की अंग्रेज 1857-1947 तक हत्या करते है, गोली मारकर या फांसी पर चढ़ाकर हत्या, उन्ही में से कुछ प्रमुख भारतीयों की लिस्ट

* खुदीराम बोस उम्र 18 वर्ष 11.8.1908 * बादल गुप्ता उम्र 18 वर्ष 7.7.1931 * करतार सिंह सराभा उम्र 19 वर्ष। 16.11.1915 * दिनेश गुप्ता। उम्र 19 वर्ष। 7.7.1931 * हेमू कालानी। उम्र 19 वर्ष। 21.1.1943 * प्रफ़ुल्ल चाकी। उम्र 20 वर्ष।  * बसंत कु बिस्वास। उम्र 20 वर्ष। 11.5.1915 * कनाईलाल दत्ता। उम्र 20 वर्ष। 10.11.1908 * प्रीतिलता वाडियार। उम्र 21 वर्ष * बेनोय बसु। उम्र 22 वर्ष 13.12.1930

* शिवराम राजगुरु। उम्र 22 वर्ष 23.3.1931 * भगत सिंह उम्र 23 वर्ष। 23.3.1931 * चंद्र शेखर आज़ाद। उम्र 24 वर्ष 27.2.1931 * जतिन्द्र नाथ दास। उम्र 24 वर्ष।  * सुखदेव थापर। उम्र 24 वर्ष 23.3.1931 * भगवती चरण वोरा। उम्र 25 वर्ष। 28.5.1930 * मदन लाल धींगरा। उम्र 25 वर्ष 17.8.1909 * प्रताप सिंह बारहट उम्र 25 वर्ष 7.5.1918 * भाई बालमुकुंद। उम्र 26 वर्ष। 11.5.1915 * राजेन्द्र लाहिड़ी। उम्र 26 वर्ष 17.12.1927

* अशफ़ाक़ुल्ला। उम्र 27 वर्ष। 19.12.1927 * विष्णु गणेश पिंगले उम्र 27 वर्ष। 16.11.1915 * बैकुंठ शुक्ला। उम्र 27 वर्ष। 14.5.1934 * मंगल पांडे। उम्र 29 वर्ष। 8.4.1857 * राम प्रसाद तोमर। उम्र 30 वर्ष। 19.12.1927 * वीरभाई कोतवाल। उम्र 31 वर्ष।  * रोशन सिंह। उम्र 35 वर्ष। 19.12.1927 * बाघा जतिन। उम्र 35 वर्ष। 9.9.1915 * सूर्या सेन। उम्र 39 वर्ष 12.1.1934 * उधम सिंह। उम्र 40 वर्ष।  * बटुकेश्वर दत्त। उम्र 54 वर्ष। 1965 * गोपीनाथ साहा। उम्र 18 वर्ष मार्च 1924

ये तमाम वो अमर बलिदानी है जिन्होंने भारत की आज़ादी के लिए अपनी जान दी थी, अंग्रेजों के इन्हे फांसियों पर चढ़ाया, गोलियों से भूना, इनमे से 1 भी कॉंग्रेसी नहीं था, इन अमर बलिदानियों का नाम भी नहीं लिया जाता जिन्होंने आज़ादी के लिए लड़ाई लड़ी और अपनी जान दी, पर गाँधी नेहरुओं के जन्मदिवस पर रटा रटाया डायलॉग जरूर मार दिया जाता है की “आज़ादी तो गाँधी नेहरू ने दिलाई, कांग्रेस ने दिलाई”

हैलो-हैलो तो आपने बहुत सुना होगा,लेकिन कभी सोचा है कि आखिर कॉल पर पहला शब्द HELLO क्यों कहते हैं

कन्हैया कुमार को लखनऊ में पड़े 25 से ज्यादा थप्पड़, खामोश बैठे रहे शत्रुघ्न, वरना उनकी भी होती कुटाई