in

एलओसी पार करके भारतीय जवानों के हमले का पूरा सच आया सामने, पाक फ़ौज में मची चीख-पुकार

नई दिल्ली : वक़्त बदल गया है, देश में अब कांग्रेस की नपुंसक सरकार नहीं बल्कि 56 इंच के सीने वाली मोदी सरकार है. जहाँ एक ओर मुम्बई आतंकी हमले के बाद भी कांग्रेस ने भारतीय वायुसेना को पाकिस्तान के खिलाफ एक्शन लेने से रोक दिया था, वहीँ पीएम मोदी ने भारतीय सेना को अपने तरीके से जवाब देने की खुली छूट दी हुई है. बड़ी खबर सामने आ रही है, जिसके मुताबिक़ भारतीय सेना के हमले में पाकिस्तान को काफी नुक्सान उठाना पड़ा है.

army-pti-1.jpg (660×440)

आतंकी नहीं पाक फ़ौज पर हमले का ही था प्लान
पिछले साल एलओसी पार करके भारतीय सेना ने इतिहास रचा था, इस बार फिर से सेना के बहादुर जवानों ने एनओसी पार करके पाक फ़ौज की धज्जियां उड़ाते हुए पाक फ़ौज की पूरी की पूरी पोस्ट को ही तबाह कर दिया है.

इस बार की सर्जिकल स्ट्राइक को पिछली सर्जिकल स्ट्राइक से ज्यादा महत्वपूर्ण बताया जा रहा है, क्योंकि पिछली बार तो आतंकी ठिकानों को टारगेट बनाकर हमला किया गया था, मगर इस बार भारतीय जवानों ने खासतौर से पाक फ़ौज पर हमला करने के लिए ही बॉर्डर पार किया.

शनिवार को पाक फ़ौज ने भारी गोलाबारी करके भारतीय सेना के तीन जवानों को शहीद कर दिया था, जिसके जवाब में पाक फ़ौज को ही सबक सिखाने के लिए भारतीय जवानों ने एलओसी को पार करके पाक सैनिकों पर भीषण हमला बोल दिया.

इस हमले में पाक फ़ौज को काफी नुक्सान पहुंचा है. हालांकि पाकिस्तान की ओर से अपना नुक्सान छिपाने के लिए केवल तिल ही सैनिक मारे जाने की खबर फैलाई जा रही है. बताया जा रहा है कि भारतीय जवान ‘ढूंढों और मारो’ के मिशन से सर पर कफ़न बाँध कर एलओसी पार गए थे और पाक पोस्ट को तबाह करते हुए लाशें बिछा कर सुरक्षित वापस आ गए.

सेना के हवाले से बताया जा रहा है कि इस बार आतंकी निशाने पर नहीं थे, भारतीय कमांडोज़ ने खासतौर पर पाक सैनिकों को मारने के लिए ही एलओसी पार की थी, ये पाक फ़ौज के लिए एक चेतावनी है कि हमने तुम पर पूरी तरह नज़र बनायी हुई है, हम ढूंढ निकालेंगे और ठोक देंगे.

कैसे किया गया हमला?
सबसे पहले आईईडी ब्लास्ट करके पाक फ़ौज को काफी नुक्सान पहुंचाया गया, जिसके बाद भारतीय जवानों ने ताबड़तोड़ गोलियों की बारिश भी कर दी. तीन पाक स्नाइपर जवानों को देखते ही गोली मार दी गयी, ये स्नाइपर ही लम्बी दूरी तक मार करने वाली राइफलों के जरिये भारतीय जवानों पर हमला करते थे.

इसके बाद उनके बचाव में उतरे अन्य पाक सैनिकों की भी लाशें बिछा दी गयीं. कम से कम 10 पाक सैनिकों की लाशें गिरती देखी गयीं, जबकि कई अन्य पाक सैनिक भी पलक झपकते ही ढेर हो गए. बताया जा रहा है कि काफी संख्या में पाक सैनिक मारे गए हैं.

क्यों किया भारतीय सेना ने हमला?
शनिवार को पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम, जिसे बैट कहा जाता है, ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी में एक भारतीय सैन्य अफसर समेत तीन जवानों को शहीद कर दिया था. इसके अगले ही दिन यानी 24 घंटे के अंदर रविवार शाम भारतीय जवान एलओसी पार पहुंच गए और पाकिस्तान की कार्रवाई का करारा जवाब दे डाला.

मोदी सरकार के उच्च सूत्रों के मुताबिक, यदि पाकिस्तान भविष्य में भारतीय जवानों के खिलाफ किसी करतूत को अंजाम देता है तो उसे ऐसे ही जवाब दिया जाएगा. इस कार्रवाई से मोदी सरकार ने अपनी मंशा को जाहिर भी कर दिया है कि, ‘तुम मारोगे तो हमने भी कोई चूड़ियाँ नहीं पहनी हुई हैं. तुम एक मारोगे तो हम 10 मारेंगे, वो भी अंदर घुसके मारेंगे.’ किसी एटम बम की धमकी से भारत डरने वाला नहीं है, भारत के पास भी एटम बम हैं.

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यहां पिता से होता है बेटी का ब्याह, बन जाती है मां की सौतन इस प्रथा के बारे में जानकर हिल जायंगे आप

सेना के पाकिस्तान में घुसने के बाद,CRPF जवानों को मिली ऐतिहासिक कामयाबी,30 साल में नहीं हुआ था ऐसा