in

खेले जा रहे हैं राजनीतिक दाव, हत्यारे मंत्री को बचा रही है भाजपा

New Delhi: MADHYA PRADESH में मंत्री लाल सिंह आर्य अड़चनों में घिरते दिख रहे हैं। राज्य के कांग्रेस विधायक माखन सिंह जाटव की हत्या के मामले में अदालत द्वारा आरोपी बनाए गए आर्य के खिलाफ कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है।

लाल सिंह आर्य को बर्खास्त करने का दवाब 
लाल सिंह आर्य के इस अपराध को पर अब राजनीतिक दाव खेले जा रहे हैं। इसे लेकर मुख्यमंत्री पर लाल सिंह आर्य को बर्खास्त करने का दवाब बनाया जा रहा है। साल 2009 में लाल सिंह आर्य ने कांग्रेस के MLA की हत्या की थी। जानकारी के अनुसार आर्य के खिलाफ सातवीं बार वॉरंट जारी किया गया है। इस वॉरंट के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर मंत्री लाल सिंह आर्य को बर्खास्त करने की मांग की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री डाक्टर गोविंद सिंह ने राज्यपाल को ज्ञापन देकर हत्या के आरोपी आर्य को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की है। विपक्ष के नेता अजय सिंह ने बुधवार को चौहान से कहा कि उन्हें ऐसे नेता को बर्खास्त करने में देरी नहीं करनी चाहिए। जिससे बाकी नेताओं को एक उदाहरण मिले।

लाल सिंह आर्य को अदालत में बुलाने के लिये 6 वारंट जारी 
गोविंद सिंह ने अपने ज्ञापन में कहा है कि अब तक भिंड की विशेष अदालत ने लाल सिंह आर्य को अदालत में बुलाने के लिये 6 वारंट जारी किए थे। इसके बावजूद भी जब वह अदालत में पेश नही हुये तो 5 दिसंबर को उनका गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया। इस कारण अब उन्हें मंत्री बने रहने का अधिकार नही है और उन्हें तत्काल हटाया जाना चाहिये।  साल 2009 में लोकसभा चुनाव के दौरान भिंड जिले के गोहद क्षेत्र से विधायक माखन सिंह जाटव की हत्या कर दी गयी थी। परिजनों के आरोप के बाद अदालत ने लाल सिंह आर्य को भी आरोपी बनाने के निर्देश दिये थे। इन आरोपों के बाद आर्य ने ऊपरी अदालत में अपील की लेकिन कोर्ट ने उनकी याचिका पर सुनवाई के दौरान उन्हें राहत देने से मना कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मोदी जी सुनिए इस लड़की की फरियाद ! सबको रुला दिया इस लड़की के दर्द ने

अभी-अभी: पुलवामा के त्राल में सुरक्षाबलों को मिला ग्रेनेड, मौके पर पहुंचा बम निरोधक दस्ता