in

इन्हे चुनाव प्रचार, खर्च, शोर शराबे की जरुरत नहीं, लोग खुद ही इन्हे जीता देते है इन्हे चुनाव प्रचार, खर्च, शोर शराबे की जरुरत नहीं, लोग खुद ही इन्हे जीता देते है

जूनागढ़ में गिरनार की विशाल पहाड़ी है और इस गिरनार पहाड़ी की परिक्रमा का बहुत महत्व है परिक्रमा पथ पर परिक्रमा करने के बाद लोग बोतल नमकीन के खाली रेपर आदि फेंक देते हैं ।

गिरनार पहाड़ी की सफाई करता है यह व्यक्ति और कोई नहीं बल्कि जूनागढ़ के बीजेपी विधायक महेंद्र मशरू है ।
महेंद्र मशरू की सादगी सुनकर आप दंग रह जाएंगे । महेंद्र मशरू दो बार निर्दलीय और चार बार से बीजेपी के विधायक हैं यानी करीब 38 साल से लगातार विधायक है । उन्होंने शादी नहीं की है एक कमरे के छोटे से मकान में रहते हैं पैर में चप्पल पहने रहते हैं हर वक्त लोगों की सेवा करने के लिए तत्पर रहते हैं हमेशा बस में ही सफर करते हैं इनके पास अपनी खुद की गाड़ी तक नहीं है यह या तो पैदल चलते रहते हैं या बस में सफर करते हैं । 

अपना पूरा चुनाव प्रचार यह पैदल चलकर ही करते हैं गांधीनगर में विधायक निवास से विधानसभा तक राज्य सरकार विधायकों को आने जाने के लिए बस चलाती है उस बस का सिर्फ महेंद्र मशरू ही इस्तेमाल करते हैं और विधानसभा सत्र पूरा होने के बाद गांधीनगर से बस में बैठकर ही जूनागढ़ चले जाते हैं
इनकी सादगी और कर्मठता को नमन …इनकी सादगी और इनके कर्मठता से आज तक कांग्रेस इन्हें हरा नहीं सकी और ना कभी हरा सकेगी वाह आज भी ऐसे नेता मौजूद है, इन्हे अपने चुनाव प्रचार के लिए  किसी खास खर्च की जरुरत नहीं है, न ही  इन्हे कोई हत्कंडे करने की जरुरत है, पर इनकी सादगी के कारण लोग खुद ही इनको इतना प्रेम करते है की जीता देते है 

19 नवंबर 2017 रविवार के दिन 8 राशियों पर होगी कुबेर की महिमा चन्द्रमा होंगे उदय

हाइपरलूप के जरिए बढ़ेगी ट्रांसपॉर्ट की रफ्तार, एक घंटे में तय होगी 1000 किमी दूरी