in

बड़ा खुलासा : जब ” हिन्दू शरणार्थी ” बनेंगे तो ऐसा कौन सा देश है जो हिन्दुओं को आश्रय देगा, मचा हडकंप …..

आजकल सभी लोग सोशल मीडिया पर अपने विचार रखते है. वो क्या सोचते है और क्या चाहते है सभी कुछ सोशल मीडिया पे डालते है ताकि बाकि लोग भी इस ओर ध्यान दें. सोशल मीडिया लोगो को एक- दुसरे की बात को बताने का समझाने का माध्यम बन गया है. जिसके सहारे लोग अपनी बात को दुसरे लोगो तक पहुंचाते है. सच्चाई को सामने लेन का प्रयास करते है. लोगो को कई बातों से जुडी सच्चाई से अवगत कराते. सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम है जो लोगो को लोगो से जोड़ता है. उनके विचारो को दुसरे लोगो तक पहुंचता है !

इसी चलते हमारी नजर सोशल मीडिया पर रहती है. आजकल देशभर में क्या-क्या हो रहा है ये सब हमे सोशल मीडिया से ही पता चलता है और इससे जुडी कई चीजों को हम अपने पाठकों के सामने भी पेश करते है. पूरे देशभर में क्या हो रहा है और क्या होने वाला है इससे लोगो को जागरूक कराते है. यह एक ऐसा माध्यम है जो कि सभी बातों को लोगो के सामने लाता है ये किसी एक क पक्ष नही लेता. जो भी देशभर में चल रहा होता है उससे लोगो को जागरूक कराता है. जिससे लोगो को पता होना चाहिए कि हमारे देश में क्या चल रहा है. कैसा होए से हमारा देश प्रगति कर सकता है या फिर कैसा न होने से देश कोहनी हो सकती है ये सभी बातें हमें सोशल मीडिया से पता चलती है !

जिस सोशल मीडिया के कारन हमे देश भर हो रही बातों का पता चलता है आज उसी सोशल मीडिया पर हुए ये सवाल देखने को मिला. सवाल ये पूछा गया कि अगर कभी ऐसा हुआ की हिन्दुओं पर किसिस प्रकार की मुसीबत आई और उन्हें मज़बूरी में शरणार्थी बनना पड़ा तो वे क्या करेंगे. वे किस देश में शरण लेंगे या फिर किस देश में उनको शरण मिलेगी. कोन सा ऐसा देश होगा जो हिन्दुओं को अपने देश में आश्रय देगा. क्या कभी सोचा है आपने इस बारे मे कल अगर ऐसा हुआ थो क्या होगा इसका परिणाम. जनता है कोई इस बारे में की अगर कभी ऐसी नौबत आई थो क्या करेंगे !

यहाँ एक ऐसा मामला है जो दैनिक भारत के पाठकों के बीच में रखने लायक है, क्यूंकि जागरूकता हर व्यक्ति का अधिकार है. दैनिक भारत के पाठकों को इस बात कि जानकारी होनी ही चाहिए. आगे आने वाले समय में अगर कोई इसी मुसीबत आई थो क्या कदम उठाना होगा. क्या देश को जागरूक करना गलत है. क्या देश के प्रति अपना कर्तव्य न्हीभाना गलत है. दैनिक भारत के पाठकों को नि लगता की इस तरह का सवाल पूछा जाना सही नहीं है. ऐसा सवाल पूछकर आप क्या साबित करना चाहते है. जो भी देश में च रहा है इससे जनता को जागरूक कराना आवश्यक है !

देखिये सोशल मीडिया पर क्या सवाल उठ रहा है सवाल यह पूछा गया है कि,अगर कभी हिन्दुओ पर मुसीबत आई और हिन्दू मज़बूरी में शरणार्थी बने तो उनको कौन से देश में शरण मिलेगी? ऐसा कोन सा देश हो जो इनको अपने साथ रखने के लिए राजी होगा अगर आप भारत का नक्शा देखें, और उसके पड़ोसियों को देखें तो एक चीज तो साफ़ हो जाता है की, पाकिस्तान में हिन्दुओ को शरण नहीं मिलेगी, बांग्लादेश और चीन की तरफ भी न ही देखा जाये तो अच्छा है !

बात करें पाकिस्तान कि तो ये बात तो सबको पता है कि यहाँ आश्रय मिल पाना नामुमकिन है. पाकिस्तान तो शुरू से ही भारत का विरोधी देश रहा है. मुस्लिमो ने हमेशा से ही हिन्दुओं को अपना गुलाम बनाना चाहा. उनको अपने कदमो पर रखना चाहा है फिर केसे ये उम्मीद रख सकते है की पाकिस्तन किसी भी प्रकार से हिन्दुओ की मदद कर सकता है. ऐसा सोचना एक तरह से सपना देखना होगा और वो भी ऐसा सपना जो कि कभी भी सच्चा नही हो सकता इस बात को भूल जाओ वही अच्छा है !

वहीँ नेपाल भूटान और श्रीलंका हिन्दुओ को शरण दे सकेगा ये भी मुमकिन नहीं होगा क्यौकी वो तो काफी छोटे देश है, उनके खुद के देश में रहने वालो को मुसीबतों का सामना करना पता है ओ वो किस तरह हिन्दुओं की मदद क सकते है ऐसी सूरत में हिन्दुओ को 1 ही जगह शरण मिल सकती है और वो स्थान है समुंद्र में या तो बंगाल की खाड़ी या अरब सागर या फिर हिन्द महासागर ये जगह है जहाँ हिन्दुओं को रहने के लिए शरण मिल जाएगी. इन सभी बातों से यह पता चलता है कि हिन्दुओं का अपना कोई भविष्य नही है. उन्होंने कभी इस नजरिये से देखा ही नहीं की अगर कभी ऐसा हुआ तो कोण उनकी मदद करेगा.कोई भी नही है हिन्दुओं की सहायता करने वाला !

इन सब बातों से अब तो यही लगता है कि सच में हिन्दुओ को भी अपने भविष्य के बारे में सोचना ही चाहिए कि उनका आज चाहे जेसा भी हो पर उनका कल केसा होगा या उनका कल आज जेसा ही होगा या इससे भी बेकार होगा इस बारे में अभी तो कुछ भी नही कहा जा सकता. लेकी इतना जरुर कहा जा सकता ही हिन्दुओं को अपने आज के साथ- साथ अपने कल को भी बहतेर बनाना होगा ताकि अगर भविष्य में ऐसा हुआ भी तो उनको किसी के सहारे की जरुरत न पड़े. किसी के सामने सहायता के लिए हाथ न फैलाना पड़े. आज में अपने कल को इतना मजबूत बना लो कि कल जो भी हो इस बात से निश्चिंत रहें कि हमे या हमारी आने वाली पीड़ी को कोई कष्ट न हो आज की तरह हमारा कल भी सुन्दर ओए प्यारा हो !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिन्दू भावनाओं की रक्षा को लेकर, पद्मावती पर CM योगी का ऐतिहासिक फैसला- भंसाली समेत पूरी फिल्म इंडस्ट्री में हाहाकार !

तीन तलाक के खिलाफ लड़ने वाली मर्दानी ने पीएम मोदी से मिलाया हाथ, ममता,ओवैसी के खिलाफ शुरू करी जंग