in

गुजरात चुनाव : BJP में टिकट पाने के लिए लगी मुसलमानों की लंबी लाइन, बोले-देंगे मोदी का साथ

Ahmedabad: गुजरात दंगों के बाद जमीनी तौर पर अब गुजरात के हालात काफी बदल चुके हैं। साल 2011 में गुजरात का CM बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने अपनी छवि बदलने का जो प्रयास शुरू किया था, वो अब काफी हद तक सफल होता दिख रहा है। हालांकि, जब साल 2011 में अल्पसंख्यक मुस्लिमों के लिए मोदी ने सद्भावना मिशन शुरू किया था, तो उस समय बड़ी संख्या में मुस्लिम उनसे जुड़े थे, लेकिन अगले वर्ष ये मिशन तब फेल हुआ जब 2012 चुनावों में BJP ने एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया।

अब इस बात को पूरे पांच साल हो चुके हैं और मुस्लिम समुदाय के कई नेता BJP का टिकट पाने के लिए लंबी लाइनों में खड़े दिख रहे हैं। BJP अल्पसंख्यक मोर्चा ने विधानसभा चुनावों में कई सीटों की मांग की है। BJP अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रभारी महबूब अली चिश्ती ने कहा कि 2015 में हुए स्थानीय निकाय के चुनावों में करीब 350 Muslim Candidates ने जीत दर्ज की थी, वे विधानसभा चुनावों में भी जीतने का दम रखते हैं। मुस्लिम नेताओं ने जमालपुर-खडिया, वेजालपुर, वागरा, वान्कानेर, भुज, अबदासा सीटों के लिए टिकटों की मांग की है।

61 पर्सेंट मुस्लिम आबादी वाली जमालपुर-खाडिया सीट के लिए बिल्डर उस्मान गांची ने BJP से टिकट मांगा है। करीब 10 सालों से BJP के साथ जुड़े उस्मान के आवेदन पर 5 मौलवियों ने साइन किया है। उस्मान गांची ने कहा कि मुझे BJP में हमेशा सम्मान मिला है। अगर मौका मिला तो मैं पार्टी के लिए सीट जीतूंगा। BJP एक मजबूत काडर आधार वाली पार्टी है, जिसकी लीडरशीप भी मजबूत है। योग्यता साबित करने के लिए मेरे पास जनता का सपॉर्ट है।

ऐसे ही पूर्व IPS अफसर ए आई सैय्यद ने बताते हैं कि मैं पिछले 9 सालों से BJP से जुड़ा हुआ हूं। अगर BJP ने मुझ पर भरोसा दिखाया तो मैं निश्चित तौर पर चुनाव जीतूंगा। सैयद, गुजरात वक्फ बोर्ड के चैयरमैन रह चुके हैं। गुजरात में 1980 से अभी तक BJP ने केवल 1 बार (1998) ही मुस्लिम को टिकट दिया गया है।

अयोध्या में कोई मस्जिद नहीं बनेगी, ना बनने दूँगा सिर्फ़ राम मंदिर बनेगा – योगी आदित्यनाथ !!

बीजेपी लायी जबरदस्त क़ानून, राष्ट्रपति कोविंद ने भी दी मंजूरी, कांग्रेस समेत सभी भ्रष्टाचारियों के उड़े होश