in

बाबरी विध्वंस की 25वीं बरसी पर दिल्ली से लेकर यूपी तक बवाल, मोदी सरकार आयी एक्शन में

नई दिल्ली : 1992 में आज ही के दिन बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ था, जिसने देश की राजनीति को बदलकर रख दिया. बाबरी को गिराए जाने की 25वीं बरसी पर दिल्ली से लेकर उत्तर प्रदेश तक कई जगह काफी बवाल हो रहा है, जिसे देख बीजेपी नेता डॉक्टर सुब्रमण्यन स्वामी भड़क गए हैं, साथ ही यूपी पुलिस भी एक्शन में आ गयी है. दरअसल दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में आज रात 9:30 बजे ‘अयोध्या में राम मंदिर क्यो?’ इस मुद्दे पर चर्चा रखी गयी थी, जिसमे डॉक्टर सुब्रमण्यन स्वामी हिस्सा लेने वाले थे.

Image result for subramanya swamy

जेएनयू ने रद्द की ‘अयोध्या में राम मंदिर’ चर्चा
मगर देश विरोधी गतिविधियों का अड्डा बन चुकी जेएनयू ने डॉक्टर स्वामी का कार्यक्रम रद्द कर दिया. कार्यक्रम रद्द किए जाने को लेकर स्वामी नाराज हैं और उन्होंने इसे राजनैतिक पाखंड बताया है. स्वामी ने कहा कि उसी यूनिवर्सिटी में लेफ्ट नेता प्रकाश करात के कार्यक्रम को रद्द नहीं किया गया और उनका कार्यक्रम रद्द कर दिया गया, लेफ्ट डरा हुआ है क्योंकि हिंदू एकजुट हैं.

आतंक समर्थकों ने लगाए विवादित पोस्टर
वहीँ उत्तर प्रदेश में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने जगह-जगह ‘बाबरी मस्जिद बनाओ’ के पोस्टर लगा दिए हैं, जिससे तनाव फ़ैल गया है. ये वही पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया है, जिसके आईएसआईएस आतंकी संगठन के साथ रिश्ते होने की बात सामने आयी है और एनआईए के मुताबिक़ ये संगठन केरल में लव जिहाद का रैकेट भी चला रहा है.

 

किसी अनहोनी की घटना को टालने के लिए यूपी पुलिस फ़ौरन हरकत में आयी और मेरठ में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली. पोस्टर के अनुसार इस आंदोलन की अगुवाई पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) कर रहा है, जिस पर लिखा है कि कहीं हम भूल न जाएं, धोखे के 25 साल, बाबरी मस्जिद की दोबारा तामीर करो

देशभर में तनाव फैलाने की साजिश
यानी कई कट्टरपंथी बाबरी विध्वंस की बरसी के मौके पर जगह-जगह साम्प्रदायिक तनाव फैलाने की ताक में हैं. इसी को देखते हुए अशांति फैलाने वाले शरारती तत्वों पर नजर बनाए रखने के लिए गृह मंत्रालय की ओर से प्रशासन को आदेश जारी किया गया है. राज्य सरकार द्वारा भी कड़ी निगरानी बनाए रखने के लिए फैजाबाद में अतिरिक्त फोर्स तैनात की गई है.

Image result for babri masjid

केंद्र की तरफ से सभी राज्य और केंद्र शासित राज्यों को भी बाबरी विध्वंस 25वीं बरसी के मौके धरने और आंदोलन की संभावना देखते हुए सतर्कता और शांति बनाए रखने की सलाह जारी की गई है. इस दौरान लखनऊ में डीजीपी ने मंगलवार को अलर्ट जारी करते हुए पुलिस और प्रशासन को आदेश देते हुए संवेदनशील इलाकों में चार से अधिक लोगों के एक साथ खड़े होने पर कार्रवाई करने को कहा है

 

 

सवाल : अगर राष्ट्रपति से कोई हादसा हो जाए तो केस किस के ऊपर होगा?

सुप्रीम कोर्ट ने लिया मोदी से पंगा, सरकारी फैसले पलटते हुए सुनाया ऐसा फैसला, हैरान रह गए लोग