• in

    मुकेश अम्बानी ने खरीदा पानी में चलता फिरता महल इसकी खासियत जानकर उड़ जायेंगे होश

    भारत के सबसे अमीर आदमी मुकेश अम्बानी का जितना बड़ा कारोबार है उतनी है लक्जरी उनकी लाइफ है अम्बानी दुनिया के सबसे महंगे घर में रहते हैं ,उनके पास खुद का प्राइवेट जेट भी है इसके आलावा वे सबसे महंगी कार में चलते हैं लेकिन इनके आलावा खबरों के मुताबिक मुकेश अम्बानी ने एक यार्ट यानि एक नौका भी खरीदी है जो पानी पर चलते फिरते किसी महल से कम नहीं हैं |

    आपको बताते है मुकेश अम्बानी की इस यार्ट की खासियत मुकेश का यह महला मुंबई के ब्रिज कैंडी पर पार्क होती है यह यार्ट एक फेमस बिल्डर कंपनी ने बनाई है जो 58 मीटर लम्बी और 38 मीटर चौड़ी है इसका छत का एरिया ३६६०० वर्ग फुट का है |जिसमे १२ यात्री और २० क्रू मेंबर रुक सकते हैं |

    ईधन की बजत के लिए इसमें 20 से 30 प्रतिशत ग्रीन एनर्जी का इस्तेमाल किया गया है जबकि 40 से 50 प्रतिशत बिजली का उपयोग होता है इसी के चलते इस यार्ट में ९६४० वर्ग फुट में सोलर एनर्जी का भी उपयोग किया गया है जो प्रतिदिन ५०० किलोवाट की बिजली पैदा करते हैं इसका यार्ट का आकार घोड़े के नाला जैसा है |

    इसमें कांच का सोलर पैनेल रूफ दिया गया है जिससे यह एस लगता है मानो यह रौशनी से नहा रहा हो इस योर्ट में जरुरत के हिस्बा से सभी चीजे उपलब्ध करायी गयी हैं |इसमें एक स्पा ,एक पूल ,एक हेलीपैड ,जिम ,मसाज रूम ,म्यूजिक रूम ,डाइनिंग रूम ,एक सिनेमा हाल ,और एल लौंज भी दिया गया है |

    इस यार्ट के नीचले हिस्से में एक आम परिषर है जिसमे एक लौंज ,प्यानो बार ,और डाइनिंग एरिया है यहाँ से खूबसूरत सी व्यू नजर आता है मेहमानों के लिए लिए इसमें बीच में ५ स्वीट्स बनाये गए हैं जहाँ से खूबसूरत सी व्यू का नजारा मिलता है इसके आलावा इसमें एक रीडिंग रूम भी दिया गया है |

  • in

    दुनिया की सबसे खरतनाक जेल जहाँ एक दुसरे को मार कर खा जाते हैं कैदी ऐसी हैवानियत जिससे रूह काप जाएगी आपकी

    हर देश के अपने अलग अलग कानून है और इनका पालन करने के लिए अलग अलग ब्यवस्था भी है अपराधियों को सजा देने के लिए हर देश में जेल बनायी गयी है लेकिन क्या आपको पता है की एक जेल ऐसी भी है जहाँ पर कैदी एक दुसरे को मार कर खा जाते हैं |

    ब्लैक डोल्फिन जेल रूष –रूष की यह जेल दुनिया की सबसे बत्तर और खतरनाक जेलों में से एक मानी जाती है इस जेल में रूष के सबसे खतरनाक हत्यारों ,बलात्कारियो और बच्चो का यौन उत्पीडन करने वाले कैदियों को रखा जाता है | ऐसे अपराधियों से निपटने के लिए यहाँ तैनात गार्ड भी उतने ही क्रूर होते हैं |

    कमटाई मैक्सिमम जेल केन्या –इस जेल में कैदियों के साथ जानवरों से भी जादा बुरा बर्ताव होता है गर्मी और पानी की किल्लत के बीच इस जेल में कैदियों को जानवरों की तरह रखा जाता है | दुनिया में यह जेल यहाँ होने वाली हिंसक घटनाओ के लिए जानी जाती है कैदी तो आपस में भिड़ते ही है गार्ड भी उन्हें जमकर पीटते हैं |इस जेल में बलात्कार की शिकायते भी सामने आती रहती है |

    ला साबानेटा वेनजुएला –अफ्रीकी देश की इस जेल वर्ष १९९४ में भयानक संगर्ष में १०० से अधिक सैनिक मारे गए थे इस जेल में खुनी खेल होंना बात है इस जेल में कैदियों की छमता १५ हजार है लेकिन जेल में 25 हजार कैदी मौजूद हैं ,इस जेल को नरक का दरवाजा भी कहा जाता है |यहाँ १५० कैदियों पर एक सुरक्षा गार्ड तैनात रहता है इस जेल में रेप से लेकर हत्या करने वाले कैदियों की संख्या सबसे जादा है |

    बैंकांक जेल थाईलैंड –यहाँ एक कप शूप पर जिन्दगी बिताते है कैदी यह जेल कैदियों को क्रूर यातनाओ के लिए जानी जाती है इस जेल में उन कैदियों को रखा जाता है जिन्हें वहां की सरकार देश की सुरक्षा के लिए खतरा मानती है ,इन्हें खाने के लिए एक कप शूप और चावल दिया जाता है | मौत की सजा पाए कैदियों को मोटी जंजीरों से जकड कर रखा जाता है |

    टेडमोर जेल सिरिया –यह जेल अपराधियों के लिए कब्रिस्तान के नाम से भी जानी जाती है यह जेल अमानवीय सलूक के लिए जादा प्रसिद्द है कैदियों को मौत की सजा देने के लिए जमीन पर घसीटना और काट देना आम बात है | जून १९८० में रास्त्रपति के आदेश पर सेना ने हजारो कैदियों की हत्या कर दी थी |

     

  • in

    NIA ने किया सैय्यद अली शाह गिलानी को बर्बाद 150 करोंड की संपत्ति जब्त

    कश्मीर के अलगाववादी नेता सैय्यद अली शाह गिलानी की बरबादी का बैंड बजाना शुरू हो चूका है NIA का शिकंजा उनपर और उनके खानदान और उनकी संपत्ति पर हर रोज कसता जा रहा है और लगातार कई सनसनी खुलासे होते जा रहे हैं |खबर है की NIA ने गिलानी की 14 प्रॉपर्टी को शोर्ट लिस्ट किया है इसमें गिलानी के परिवार की संपत्ति भी शमिल है |

    कहा जा रहा है की गिलानी के १४ प्रॉपर्टी १ करोंड से लेकर 150 करोंड तक हो सकती हैं NIA की नजर अलगाववादी नेता के हवाला और बेनामी संपती पर भी है कहा जा रहा है की कश्मीर के इन नेताओ ने हवाला के जरिये करोंड़ो रुपए का हेर फेर किया है |

    इन अलगाववादी नेताओ ने हवाला के रुपए का हेर फेर करके प्रॉपर्टी बनाई है इनमे कश्मीर के कई शिक्षण सस्थान खेती की जमीन और आलीशान मकान भी शामिल है ,इसके आलावा गिलानी की नजर दिल्ली वाले कुछ फ़्लैट पर भी है |

    आज तक के खुलाशे के बाद NIA की तरफ से अलगाववादी नेताओ पर शिकंजा कसता चला जा रहा है भारत को तोड़ने के लिए कैसे टेरर फण्ड का खेल चल रहा था और कैसे लोगो का नेत्रत्त्व करने की आंड में कश्मीर के अलगाववादी नेता अपनी अपनी झोलियाँ भर रहे थे इन सबका खुलाशा हो चूका है | रोजाना अलगाववादी नेताओ से जुडी कई नयी जानकरियां सामने आ रही हैं और NIA अपने एक्शन से लगातार उनकी कमर को तोड़ने का काम कर रही है |

  • in

    दुनिया देती थी जिसके प्यार की मिशाल वो था हवस का भूखा इसी के चलते उसने अपनी सगी बेटी के साथ भी

    इतिहासकारों की माने तो शाहजहाँ के हरम में सैकड़ो रखैल थी जो उसे उसके पिता जहागीर से विरासत में मिली थी उसने अपने पिता की सम्पति को और बढ़ाया और हरम के महिलाओ की ब्यापक छाट की मतलब वृद्ध हो चुकी महिलाओ को हटाकर सुन्दर हिन्दू महिलाओ को जबरदस्ती लाकर वो अपने हरम को बदाता था |

    कहते है की उन्ही भगाई गयी महिलाओ से दिल्ली का रेड लाइट एरिया GB रोड गुलजार हुआ था और वहां इस धंदे की शुरआत हुई थी जबरन अगवा की गयी हिन्दू महिलाओ की यौन गुलामी और यौन ब्यापार को शाहजहाँ आश्रय देता था और अक्सर मंत्रियो और संबंधियों को पुरस्कार स्वरूप अनेको हिन्दू महिलाओ को दे दिया करता था ,ये नरपुरुष यौवानाचार की तरफ इतना आकर्षित और उत्साहित था की हिन्दू महिलाओ का मीना बाजार लगाया करता था ,जहाँ तक उसके महल में भी ये बाजार सजाया जाता था |

    इतिहासकारों की माने तो उनके हिसाब से यहाँ लगने वाले मीना बाजार यहाँ अगवा कर लायी गयी सैकड़ो हिन्दू महिलाओ क्रय विक्रय हुआ करता था राज्य बड़ी संख्या में नाचने वाली लडकियों की ब्यस्था और नपुसंक बनाये गए लडको की उपस्थति शाहजहाँ के हवस के समाधान के लिए ही थी |

    इस राजा ने अपनी हवस को पूरा करने के लिए मुमताज के पति की मृत्यु कर उसे जबरन उससे शादी की थी जैसे की न की भारत में बल्कि पूरे दुनिया भी शाहजहाँ को प्यार की मिशाल के रूप में पेश किया जाता रहा है और किया भी क्यों न जाए सैकड़ो औरतो को अपने हरम में रखने वाला अगर किसी एक में अपनी रूचि दिखाए तो वो उसका प्यार ही कहा जायेगा |

    आप ये जानकर हैरान हो जायेंगे की मुमताज का नाम मुमताज महल था ही नहीं बल्कि उसका असली नाम अर्जुमंद बानो बेगम था और तो और जिस शाहजहाँ और मुमताज के प्यार के पूरी दुनिया में इतनी डींगे हाकी जाती है वो शाहजहाँ की न तो पहली पत्नी थी और न ही आखिरी मुमताज शाहजहाँ की सात पत्नियों में चौथी थी |

    इसका मतलब है की शाहजहाँ ने मुमताज से पहले तीन शादियाँ कर रखी थी और मुमताज से शादी करने के बाद भी उसका मन नहीं भरा और उसके बाद भी उसने तीन शादियाँ और की यहाँ तक की मुमताज के मरने के एक हफ्ते के अंदर ही उसकी बहन फरजाना से शादी कर ली थी ,जिसे उसने रखैल बना कर रखा हुआ था |

    इससे शादी करने से पहले ही शाहजहाँ को एक बेटा भी था तो ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी ही है की अगर शाहजहाँ को मुमताज से इतना ही प्रेम था तो मुमताज से शादी के बाद ही शाहजहाँ ने और तीन शादियाँ क्यों की ?? आपको बता दे की शाहजहाँ की सात पत्नियों में सबसे सुंदर मुमताज नहीं बल्कि इशरत बानो थी जो की उसकी पहली पत्नी भी थी |

    इससे भी घिनौनी हरकत यह है की मुमताज से शादी करते वक्त वो कोई कुवारी लड़की नहीं थी बल्कि वो पहले से ही शादीसुदा थी और उसका पति शाहजहाँ के सेना में सूबेदार था जिसका नाम शेर अफगान खान था ,शाहजहाँ ने अफगान खान की हत्या कर मुमताज से जबरन शादी कर ली थी |

    38 साल की मुमताज की मौत कोई बीमारी या फिर एक्सीडेंट नहीं था बल्कि 14 वें बच्चे को जन्म देने के दौरान अत्यधिक कमजोरी से हुई थी यानी की शाहजहाँ ने उसे बच्चे पैदा करने की मशीन ही नहीं फैक्ट्री बना कर मार डाला |शाहजहाँ में शम्भोग की भूख इतनी थी की वह अपनी यौन भूख के लिए बहुत कुख्यात था जिसके चलते ही कई इतिहासकारों ने उसे उसकी सगी बेटी जहारा के साथ सम्भोग करने का दोषी भी माना है |

    क्योकि शाहजहाँ और मुमताज महल की बड़ी बेटी जहारा बिल्कुल अपनी माँ की तरह ही दिखती थी चुकी जहारा अपनी माँ की तरह ही दिखती थी इसीलिए मुमताज की मौत के बाद उसकी याद में शाहजहाँ ने अपनी ही बेटी के साथ में यौन सम्बन्ध बनाना शुरू कर दिया |इतिहासकारों की माने तो जहारा को शाहजहाँ इतना प्यार करता था की अपनी यौन इक्षाओ की पूर्ती के लिए उसने उसका निकाह भी नहीं होने दिया |

    बाप बेटी के इस नाजायज प्यार को देखकर जब महल में चर्चा शुरू हुई तो मुल्ला मौलियो की एक बैठक बुलाई गयी और उनोंहे इसे जायज ठहराने के लिए एक हदीज का उद्धरण दिया और कहा की मालिको द्वारा लगाये गए पेड़ का फल खाने का हक़ है ,शाहजहाँ अपनी बेटी के साथ यौन क्रियाओ का इस कदर आदी हो गया था की वो जहराना के किसी भी आशिक को भटकने भी नहीं देता था |

    दर्शल अकबर ने यह नियम बना दिया था मुग्लियाँ खानदान की बेटियों की शादी नहीं होगी इतिहासकार इसके लिए कई कारण बताते हैं इसका परिणाम यह होता था की मुग़ल खानदान की लड़कियां अपनी जिस्मानी भूख मिटाने के लिए अवैध तरीके से दरबारी ,नौकर के साथ साथ रिश्तेदार यहाँ तक सगे संबंधियों का भी सहारा लेती थी |

    जाहारा अपने बाप के लिए लड़कियां भी फसा कर लाती थी जहारा की मदद से शाहजहाँ ने मुमताज के भाई की पत्नी से कई बार बलात्कार भी किया था ,शाहजहाँ की राज ज्योतिष की 13 वर्षीय लड़की की जहारा ने अपने महल में बुलाकर धोके से नशीला पदार्थ खिलाकर अपने बाप के हवाले कर दिया था जिससे शाहजहाँ ने 58 वर्ष की उम्र में उस 13 वर्ष की ब्राह्मण कन्या से निकाह किया था

     

    बाद में इसी ब्राह्मण कन्या ने शाहजहाँ के कैद होने के बाद औरंगजेब से बचने और एक बार फिर से हवस की सामग्री बनने और खुद को बचाने के लिए अपने ही हाथो अपने चेहरे पर तेजाब दाल लिया था | तो ऐसे में ये सवाल उठाना लाजमी है की क्या ऐसे वहसी और क्रूर ब्यक्ति की कसमे खाकर लोग अपने प्यार को बेइज्जत नहीं करते हैं |

    दर्शल ताजमहल और प्यार की कहानी इसलिए गढ़ी गयी की लोगो को गुमराह किया जा सके और खासकर हिन्दुओ से छुपायी जा सके की ताजमहल कोई प्यार की निशानी नहीं बल्कि महाराज जयसिंह द्वारा बनवाया गया भगवान शिव का मंदिर तेजोमहालय शिव मंदिर है | आपको सुनकर शायद झटका लगे इसको सिद्ध करने के लिए डॉक्टर सुब्रमणयम स्वामी आज भी सुप्रीम कोर्ट में सत्य की लड़ाई लड़ रहे हैं |

  • in

    इस देश में आज भी चलती है राम नाम की मुद्रा नाम जानकर आपके उड़ जायंगे होश देखें –

    मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का नाम भारत की सभ्यता में रचा-बसा हुआ है। यहां अक्सर राम राज्य की बात भी होती है। भगवान राम और उनका जन्म स्थान अयोध्या है ।औऱ यहां का राजनीति का भी विषय है। यहां की अधिसंख्य जनता भगवान राम को अराध्य मानती है ।और उनके दिलों में भगवान राम निवास करते हैं। भारतीय मुद्रा यानी रुपयों पर अशोक स्तंभ और आजादी की लड़ाई के महानायक महात्मा गांधी को तो जगह मिली, लेकिन भगवान इस रेस में पीछे रह गए। भारत में भले ही भगवान राम को नोटों पर जगह न मिली हो,। लेकिन दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां राम नाम की मुद्रा चलती है।

    ‘राम’ नाम की इस मुद्रा में चमकदार रंगों का इस्तेमाल किया गया है। राम मुद्रा के एक, पांच और दस के नोट उपलब्ध हैं। इन नोटों पर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की फोटो भी लगी है। नोटों पर राम राज्य मुद्रा भी लिखा हुआ है। इस मुद्रा पर कामधेनु गाय के साथ-साथ कल्पवृक्ष की तस्वीर भी बनी है। बता दें कि अमेरिका के 35 शहरों में राम नाम के बांड चलते हैं।

    यहां ‘राम’ मुद्रा का उपयोग कानून का उल्लंघन नहीं हैं। नीदरलैंड की डच दुकानों में एक ‘राम’ के बदले दस यूरो मिल सकते हैं। इस वक्त लगभग एक लाख ‘राम’ नोट चल रहे हैं। लोग इसे बैंक में जाकर भुना भी सकते हैं। नीदरलैंड्स में सैंकड़ों दुकानों और गांवों व शहरों में 10 यूरो प्रति ‘राम’ पर यह मुद्रा चल रही है। इस मुद्रा के नोट 1 राम, 5 राम और 10 राम के रूप में छपी है।

  • in

    इन्दिरा गाँधी ने लूटा था इस महल से बेशकीमती खजाना ,ट्रको में पंहुचा सोना ,पूरा देश था भ्रम में

    1971 का समय था जब इंदिरा गाँधी ने पूरे देश में आपातकाल लगाया हुआ था और इसी आपातकाल में इंदिरा गाँधी की सरकार ने जयपुर की महारानी गायत्री के राजमहल जयघड से हजारो टन का सोना लूटा था ,करोडो का खजाना भी लूटा लेकिन फिर इस सोने का कोई पता नहीं चल पाया ,आखिर क्या था इंदिरा गाँधी के खजाना लूटने का मामला ये सब बताने के लिए हम आपको 1976 में लिए चलते हैं |

    Image result for indira gandhi

     

    उस समय पूरे देश में आपातकाल लगा था इंदिरा गाँधी के इशारे पर राजस्थान के राजघराने के एक महल जयघड पर रेड डालने की तैयारी हुई उस समय जयपुर राज घराने की प्रतिनिधि महारानी गायत्री देवी थी | इंदिरा गाँधी ने इस रेड को आयकर विबाघ की कार्यवाही करार दिया था लेकिन उसमे पोलिश के दस्ते भी शामिल थे |

     

    बाद में सेना की एक टुकड़ी भी इस काम में लगायी गयी जिसका मकसद जयघड में छ्पी बेशकीमती खजाना निकालना था जो महाराजा मान सिंह के द्वारा अफगानिस्तान विद्रोह के दौरान लूटा गया था |कहा जाता है की खजाना उनोंहे मुग़ल सल्तनत के हवाले न करके आमेर के किले में छिपा दिया था |
    जयघड किले के नीचे पानी की विशालकाय टंकिया बनी है माना जाता है की खजाना इन्ही में था | अब तक खजाने के लिए जयघड महल की खुदाई करने के बात आग की तरह पूरे देश में फ़ैल गयी थी ,तीन महीने में जयघड महल में खजाने की खोज का काम चलता रहा | जब ये जाँच ख़त्म हुई तो सरकार ने अधिकारिक रूप से कहा की किले में कोई खजाना नहीं है ,लेकिन सरकार की इस बात पर संदेह जाता है क्योकि सेना ने जब अपना अभियान समाप्त किया तो उसके बाद एक दिन के लिए दिल्ली जयपुर हाईवे आम लोगोये बंद कर दिया गया |

     

    कहा जाता है की इस दौरान जयघड खजाने को ट्रको में भरकर दिल्ली लाया गया था और सरकार इसे जनता की नजरो से छिपा कर रखना चाहती थी | हलाकि तत्कालीन महारानी गायत्री देवी का कहना था की वो खजाना जयपुर के विकाश में लगा दिया गया था लेकिन इतिहासकारों ने इस बात को नहीं माना उनका कहना था की खजाना का कुछ हिस्सा सरकार ने चोरी छिपे निकाला था | एक बात यह भी कही जाती है की 1977 में जनता पार्टी की सरकार आने के बाद जयपुर राज घराने को किले से बरामद सम्पति का कुछ हिस्सा लौटाया गया था |

  • in

    ऐसी भाग्य रेखा बना देती है सफल और महान आपके हाथो में है या नहीं

    आज हम आपको जो बताने जा रहे है अगर वो निशान आपकी हथेली पर है तो समझ जाए की आप इस दुनिया के सबसे भाग्यशाली इन्शान है | ये निशान हर किसी की हथेली में नहीं मिलता है केवल भाग्यशाली लोगो की हथेली में ही ये निशान देखने को मिलता है इस बात से तो हर कोई परिचित है की हाथो की रेखाए बहुत कुछ कहती हैं और हाथो की रेखा समय के साथ में बदलती भी रहती है हस्त रेखा के जरिये बड़े से बड़े विषयों का खुलाशा होता है | हाथ में तो वैसे बहुत सी रेखाए होती है है और हर रेखा कुछ न कुछ बयां करती है |

     

    आज हम आपको ऐसी रेखा के बारे में बताने जा रहे है है जो बहुत ही कम लोगो की हथेली में पाया जाता है |मिश्र के विद्वानों का कहना है की सिकंदर के हाथो में भी कुछ इस तरह का ही चिन्ह था कुछ इस तरह का ही निशान था |सिकंदर के आलावा शायद ही किसी की हथेली पर ऐसा निशान पाया गया |

    बताया जाता है की हाथो में X रेखा यानि की क्रॉस करती हुई रेखा किसी बड़े नेता ,किसी लोकप्रिय ब्यक्ति या ऐसे किसी ब्यक्ति के हाथो में होती है जो बड़े बड़े कामो के लिए पैदा होता है या जिसके द्वारा बड़े बड़े काम संपन्न किये जाते हैं |इसके आलावा जिस ब्यक्ति के एक हाथ मे भी यह निशान होता है वह भी किस्मत वाला होता है |

    बहुत विद्वानों का कहना है की यह चिन्ह सिर्फ सिकंदर के ही हाथ में पाया गया था | इसके बाद यह निशान सम्राट अशोक .महात्मा गन्दी ,हिटलर के हाथो में भी पाया गया था | आप भी अपने हाथो को चेक कर ले की कही आपके हाथो में भी ये X का निशान क्रॉस करते हुए तो नहीं है ,और अगर है तो आप निश्चित है बहुत भग्यशाली इंसान है |

    देखें विडियो –

     

  • in

    क्या आप जानते है की स्त्रियाँ क्यों नहीं फोडती नारियल?

    हिन्दू धर्म में नारियल के फल का बहुत महत्व है क्योंकी नारियल एक ऐसा फल है जो सभी प्रकार के पूजा पाठ में प्रयोग किया जाता है | और तो और स्वाद में भी यह सभी को अच्छा लगता है और नारियल के व्यंजन लोंगो को बहुत प्रिय होते है|

    Image result for coconut
    कलश स्थापना से लेकर किसी का सम्मान करना हो या फिर भगवान को भोग य बलि चढ़ानी हो तो नारियल के बिना ये पूरी नहीं होती है| मगर आपने यह अवश्य देखा होगा की नारियल स्त्रियों द्वारा नहीं फोड़ा जाता है | वास्तविकता यह है की स्त्रियाँ बीज रूप में शिशुओं को जन्म देती है और नारियल भी बीज रूप माना जाता है|
    ऐसे में माना जाता है इश्वर को अर्पित करने के बाद पुरुष ही नारियल फोड़ते हैं | दूसरी बात यह की नारियल कठोर भी होता है | फिर कहा जाता है की इसकी उत्पत्ति के समय भगवान् विष्णु नारियल के साथ दो अन्य चीजे लेकर प्रकट हुए वो है लक्ष्मी और कामधेनु इस कारण नारियल को और भी पवित्र माना जाता है | यह प्रजनन का करक है | इसमें तीन आँखों रूपी आकृति बनी होती है इसे त्रिनेत्र के तौर पर देखा जाता है |

    यह इतना पवित्र होता है कि इसमें आदि देव महादेव और ब्रम्हा जी के साथ विष्णु जी का भी निवास माना जाता है | यदि नारियल के जल से शिवलिंग पर रुद्राभिषेक किया जाए तो यह शनि शांति में अच्छा उपाय होता है | और तो और यह शरीरिक दुर्बलता भी दूर करता है |

  • in

    VIDEO: आँखों में आंसू ला देगा ”धोनी” का ये वीडियो,BCCI ने किया जारी

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने छोटे शहर से होते हुए भी क्रिकेट की बुलंदियों को छूने के लिए बहुत मेहनत की है. शुरूआती सफर महेंद्र सिंह धोनी के लिए बिलकुल भी आसान नहीं था. धोनी ने एक मध्यमवर्गीय परिवार से होते हुए भी क्रिकेट में आज वो मुकाम हासिल कर लिया है जिसकों पाने में किसी भी क्रिकेटर को सालों लग जाते है.

    महेंद्र सिंह धोनी की क्रिकेट की जिंदगी के बारे में तो हर किसी को पता है कि कैसे धोनी ने भारतीय क्रिकेट टीम में बहुत कम उम्र में ना केवल जगह बनाई बल्कि भारत को वर्ल्ड कप भी दिलवाया था. मैदान में धोनी की आक्रामक बल्लेबाजी और बेहतरीन फील्डिंग की वजह से धोनी ने मैदान में कदम रखते ही लोगों के दिलों पर राज करना शुरू कर दिया था.धोनी जैसे ही मैदान में बल्लेबाजी करने आते लोग जोर-जोर से उनका नाम लेकर उनका स्वागत करते थे और अभी भी करते है. धोनी को ”माही” नाम से भी पुकारा जाता है.

    बात की जाए धोनी की निजी जिंदगी के बारे में तो आपको बता दे कि धोनी की एक गर्लफ्रेंड हुआ करती थी जिसकों वो बहुत प्यार करते थे लेकिन जब इन दोनों ने शादी करने का फैसला किया तो उससे पहले ही धोनी की गर्लफ्रेंड की सड़क हादसे में मौत हो गयी. गर्लफ्रेंड की अचानक मौत की वजह से धोनी पूरी तरह से टूट गए और इसके बाद ही उन्होंने इन सब चीजों से अपना ध्यान हटाकर क्रिकेट में लगा लिया. अब धोनी साक्षी से शादी कर चुके है और उनकी एक बेटी भी है.

     

    BCCI ने भारतीय क्रिकेट टीम के इस पूर्व कप्तान को क्रिकेट में दिए गए उनके योगदान के लिए एक छोटा सा वीडियो बनाया है. जिसमें उनके द्वारा खेले गए कुछ मैचों को दिखाया गया है. इस वीडियो को देखकर आपकी भी आँखों में आंसू जरुर आ जायेंगे.

    नीचे देखिये वीडियो  

     

  • in

    Video: मरकर भी नहीं मरा प्रद्युमन..आज भी दोस्त के जरिए उसकी आत्मा मांग रही है इंसाफ..देखें हैरान करने वाला वीडियो

    प्रद्युम्न मर्डर केस की जांच कर रही एसआईटी टीम अभी मौत की गुत्थी सुलझा भी नहीं पाई थी कि इसी बीच प्रद्युम्न के साथ पढ़ने वाले उसके एक सहपाठी व उसके बेस्ट फ्रेंड ने दुनिया के सामने एक बहुत ही बड़ा चौकाने वाला खुलासा किया है. जी हाँ ये वहीँ दोस्त है जिसने खून से सने प्रद्युम्न को टॉयलेट के फर्श पर रेंगता हुआ देखा था.

    प्रद्युम्न के दोस्त के पिता ने बच्चे का नाम न बताने की शर्त पर मीडिया के सामने जो कहा वो वाकई किसी को भी हैरान कर देगा. बता दें कि प्रद्युम्न की मौत से डरे हुए बच्चे ने अपने घर जाकर परिवार वालों को जो कुछ कहाँ उसे सुन उसके घरवालों के मानो पैरों तले जमीन खिसक गई.

    बता दें कि बच्चे ने बताया कि मौत के बाद भी प्रद्युम्न उसे नजर आता है..जी हाँ सुनकर आपको यकीन न हो लेकिन ये सच है. प्रद्युम्न के दोस्त ने कुछ ऐसा ही दावा किया है. इसी बात को बल देते हुए इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी सामने आया है, जिससे ये साबित होता है कि अपनी मौत का इंसाफ मांगता प्रद्युम्न आज भी अपने दोस्त को नजर आ रहा है. वो हमेशा उसके साथ किसी साए की तरह रहता है.

    आइए आप भी देखें वो वीडियो जिसमे प्रद्युम्न की भटकती आत्मा अपने दोस्त के जरिए मांग रहीइ अपनी मौत का इंसाफ…

     

  • in

    भारतीय राजमार्गो के किनारे लगे पत्थर अलग-अलग रंग के क्यों होते हैं? आप भी जान लीजिए इनका मतलब

    सड़क एक जगह को दूसरी जगह से जोड़ती हैं, आप रोज सड़क की सहायता से ही अपने ऑफिस,घर जाते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सड़कों में अंतर किया है? सभी सड़के एक तरह की नहीं होती कुछ सड़कों के किनारे अलग-अलग रंग के पत्थर लगे होते हैं और उन पत्थरों पर पुते हुए हर रंग का अर्थ अलग होता है. आज हम आपको उन पत्थरों पर पुते हुए रंगों के अर्थ बताने जा रहे हैं ताकि जब आप अगली बार सड़क पर जाए तो इन्हें और अच्छे से समझ पायेंगे.

     

    1.पीला पत्थर

    सड़क के किनारे लगे हुए पत्थर जो ऊपर से पीले और नीचे से सफेद होते हैं. ये नेशनल हाईवे को दर्शाता है, अगर आप ऐसी किसी भी सड़क से जा रहे हैं और आपको सड़क के किनारे ऐसे पत्थर दिखाई दे तो समझ जाइये कि आप राष्ट्रीय राजमार्ग पर चल रहे हैं

    2. हरा पत्थर

    ये पत्थर ऊपर से हरे और नीचे से सफेद रंग के होते हैं. इस तरह की पट्टी वाले पत्थर अक्सर स्टेट हाईवे के किनारे में लगे हुए दिखाई देते हैं. अगर आपको सड़क पर जाते समय इस तरह की पट्टी वाले पत्थर दिखाई दे तो समझ जाइये कि आप राज्य राजमार्ग पर चल रहे हैं.

    3. सफेद या काली पट्टी का पत्थर

    अगर आप किसी सड़क पर जा रहे है और आपको सड़क के किनारे पूरा सफेद या कुछ-कुछ जगहों पर इस पत्थर के ऊपर के हिस्से में काली पट्टी लगी हो तो, समझ जाइये कि आप किसी जिले की सड़क पर सफ़र कर रहे हैं, इस सड़क का रख-रखाव उस जिले के प्रशासन द्वारा किया जाता है

    4.नारंगी पत्थर

    जिस भी जगह सड़क के किनारे नारंगी रंग के पत्थर लगे होते हैं. इसका अर्थ होता है कि आप किसी गाँव की सड़क पर सफ़र कर रहे हैं और ये सड़क एक गाँव को दूसरे गाँव से जोड़ती हैं. इस तरह के पत्थर आमतौर पर प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बनाई गयी सड़को के किनारे पर लगाए जाते हैं..

    .

     

     

  • in

    भगवत गीता को लेकर यूरोप में ऐसा क्या हुआ कि आप पढेंगे तो नाच उठेंगे !!

    हमारा भारत देश एक समृद्ध देश है ओर इस देश का महान धर्म है सनातन धर्म जो की मानव निर्मित नही है। इस देश में एक से बड कर एक महान ऋषी मुनिओं ने जन्म लिया जिन्होंने ने मानवता की भलाई के लिए अनेक ग्रंथों की रचना की। ऐसा ही एक महान ओर पवित्र ग्रंथ है “श्री मदभागव गीता”। जिसे की सभी धर्मो का सार भी कहा गया है।

    5_lesson

    भगवान श्री कृष्ण ने, महाभारत के युद्ध के समय यह गीता का ज्ञान अर्जुन को दिया था जब वो युद्ध में अपने सके संबंधियों को देख कर घबरा गया ओर युद्ध न करने का निश्चय का बैठा भगवत गीता किसी धर्म विशेष का ग्रंथ नही है। यह तो संपूर्ण मानव जाती की भलाई के लिए उच्च कोटी का ज्ञान है जिसे भारत के अलावा दूसरे देशों ने भी अपनाया है ओर इस ज्ञान के द्वारा अध्यात्म लाभ प्राप्त किया है।

    लेकिन अफसोस की बात है की भारत में यह ज्ञान धर्मनिरपेक्षता की बली चड गया। भारत में इसे वोह सम्मान नही मिला जो दूसरे देशों मे मिल रहा है। दूसरे देशों ने इसे धर्म से जोड़ कर नही देखा। उन्होंने ने अपनी सोच को संकुचित नही किया। उन्हों ने इस ज्ञान को जाना, समझा, इसे अपनाया ओर इस का लाभ उठाया।

    यूरोपीय देश नीदरलैंड को ही ले लीजिए यहाँ की सरकार ने भगवत गीता पढ़ाने के लिए एक कानून पास किया है जिस के अनुसार यहाँ के सभी स्कूलों में 5 वी क्लास से बचों को गीता का ज्ञान दिया जाएगा। नीडरलैंड की सरकार का मानना है की श्री गीता के ज्ञान से बच्चों का मानसिक विकास होगा। जबकि नीदरलैंड एक ईसाई देश है। नीदरलैंड की विपक्षी पार्टी के नेता गीर्ट विल्डेर्स कुरान पर बैन लगाने की मांग कर रहे हैं। एक चुनावी सर्वे के अनुसार गीर्ट विल्डेर्स की पार्टी अगले आने वाले चुनावों में भारी जीत हासिल करती दिख रही है।

    यह खुशी की बात है की भारत के ज्ञान से दूसरे देश भी लाभप्रद हो रहे हैं लेकिन दुख की बात है की यह सभ अभी तक भारत में इसकी महत्ता का विकास क्यों नहीं हुआ जबकि भारत में 70% से ज्यादा हिंदुओं की आबादी है। क्या भारत में इस की जरूरत नही है?

Load More
Congratulations. You've reached the end of the internet.