in ,

1976 तक हिन्दू राष्ट्र था भारत, फिर हुयी ये साज़िश और हुआ…

भारत, एक ऐसा देश जो सम्रद्धि में किसी और देश से बहुत आगे था, यहाँ तक कि भारत को सोने की चिड़िया भी कहा जाता था. भारत का नाम हिंदुस्तान भी है यानि कि हिन्दुओं के रहने की जगह अर्थात हिंदुस्तान,अग्रेजो से आजादी के बाद देश को  गाँधी और जिन्ना की गन्दी राजनीति ने पतन की और ला दिया |

Source

हिंदुस्तान का इतिहास जितना सम्रद्ध है उससे कही ज्यादा इसके साथ अनहोनी की घटनाएं जुड़ी हैं जो समय समय पर हिंदुस्तान को बर्बाद करती रही और ये राष्ट्र धीरे धीरे कमजोर होता चला गया, जो राष्ट्र कभी विश्वगुरु कहलाता था उसमें इतनी समस्याओं ने जन्म लिया कि हम आज तक जूझ रहे हैं|

Source
धर्म की रक्षा के लिए नौ विश्वयुद्ध लड़ने वाले देश पर मलिच्छ, यवन, शक, हूण, मुग़ल और अंग्रेजों ने हमला किया और देश हर परिस्थिति में जूझता रहा और इतिहास गवाह है कि आज भी सारे विश्व की अर्थव्यवस्था में हमारे यहाँ से लूटा गया सोना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है|

Source

हर मोर्चे पर डटकर सामना करने वाले देश को अपने ही चंद राजनीतिज्ञों ने बुरी तरह परास्त कर दिया, 15 अगस्त 1947 को आजाद होने के बाद हम लगातार एक विशेष परिवार की ओछी राजनीति का शिकार होते रहे जो अपने फायदों के लिए देश की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करते रहे|

Source

जब देश का बटवारा हुआ तो इसके दो हिस्सों को मुस्लिम राष्ट्र बनाया गया और भारत अघोषित हिन्दू राष्ट्र ही था, लेकिन 1976 में एक बेकार नियत के नेता ने इस देश के साथ धर्मनिरपेक्ष शब्द जोड़ दिया, जो आज के समय में देश के लिए अत्यंत घातक सिद्ध हो रहा है|

Source

इसी कथित धर्मनिरपेक्ष को आधार बनाकर कई लोग देश को तोड़ने के सपने देखते हैं और देश में अफवाह फ़ैलाने का कोई मौका नहीं छोड़ते, इसी सेकुलरिज्म के बलबूते पर ये लोग देश के विरुद्ध बोलने से भी बाज़ नहीं आते, देश ने हिन्दू राष्ट्र की पहचान खोकर अपना मूल स्वरुप खोया है|

Source

ताजमहल का ये घिनोना सच जो पहले कभी बताया नही गया

हिन्दू साधुओ और जैन मुनियों को बदनाम करने की हो रही बहुत बड़ी साजिस, ये रहा सबूत